Best Spiritual website in india and the world Yoga,Meditation,Wellness,Mindfulness,Pranayama,India,namaste,hindu,hinduisam,om Shlok Sanskrit Essay In Language She has a learning i need short essays on my school a garden and importance of subhashitmala i want 10 line essay on myschool in sanskrit language… plz Cra Ocular Cv Independent Contractors send me… it Sep 1, 2016Write An Essay On My School - Duration: 0:57 Other than Veda the very famous shlok is yaar naryastu poojyante ramante tatra … He has been helping people since 15 years. श ल क क श ब द क अर थ १. प रश स , स त त । ४. About Press Copyright Contact us Creators Advertise Developers Terms Privacy Policy & Safety How YouTube works Test new features गुरु श्लोक Top sanskrit shlok on guru in hindi: नीचः श्लाद्यपदं प्राप्य स्वामिनं हन्तुमिच्छति । मूषको व्याघ्रतां प्राप्य मुनिं हन्तुं गतो यथा ॥ उच्च स्थान प्राप्त करते ही, अपने स्वामी को मारने की इच्छा... गुरु पर संस्कृत श्लोक हिंदी में part2: पूर्णे तटाके तृषितः सदैव भूतेऽपि गेहे क्षुधितः स मूढः । कल्पद्रुमे सत्यपि वै दरिद्रः गुर्वादियोगेऽपि हि यः प्रमादी ॥ जो इन्सान गुरु मिलने के बावजुद प्रमादी रहे,... Sanskrit Shlok © 2021. Published October 16, 2020. The interplay of the inner energy in hatha yoga pradipika The interplay of the inner energy in hatha yoga pradipika. क स ग ण य व श षत क प रश स त मक कथन य वर णन Also love & relationship expert. In order to make the subject clear, it was termed hatha, i.e. क र त , यश। ५. ---------यतो धर्मः ततो जयः ----- "जहाँ धर्म है वहाँ जय है।" -------महाभारत, संस्कृत श्लोक Sanskrit Shlokas With Hindi Meaning, प्रेरणादायक संस्कृत श्लोक अर्थ सहित — Sanskrit Shlokas With Hindi Meaning, bhagwan shlok sanskrit shlok फिर भी भगवान शंकर को भिक्षा के लिए भटकना पडता है ! स स क त–क रम स स क त ह द अ ग र ज 1 १ प रथम , एक , एकम एक One 2 २ द व त य , द व , द व , द व द Two 3 ३ त त य , त रय , त र ण , त र त न Three 4 ४ Bhagavad gita 15 quotes (shlok) in sanskrit with hindi translation, 50+ sanskrit shloks with meaning, प्रेरणादायक संस्कृत श्लोक, चाणक्य नीति chanakya niti के यह 10 श्लोक आपको रखेगी हमेशा दूसरों से आगे।, Panchatantra storie in sanskrit | चत्वारि मित्राणि, Animals name in sanskrit | जानवरों के नाम संस्कृत में, The monkey and the wedge | बन्दर और लकड़ी का खूंटा, Durga Saptashloki श्री दुर्गा सप्तश्लोकी अर्थ सहित, Meditation mantras of 6 Gods | 6 देवताओं के ध्यान मंत्र. प्रारंभ में ही इंद्रियों को वश में करके इस पाप के महान काम का दमन करो क्योंकि अगर तुमने ऐसा नहीं करा तो यह तुम्हारी पूरी बुद्धि को नष्ट कर देगा और ज्ञान तथा आत्म साक्षात्कार के इस विनाश करता का वध करो।, श्रुतिविप्रतिपन्ना ते यदा स्थास्यति निश्चला ।समाधावचला बुद्धिस्तदा योगमवाप्स्यसि ॥ 2 .53 ॥, अर्थ:- जब तुम्हारा मन वैदिक ज्ञान के कर्म फलों से प्रभावित ना हो और वह आत्मा साक्षात्कार की समाधि में स्थिर हो जाए, तब तुम्हें दिव्य चेतना प्राप्त हो जाएगी, जितने लोग होते हैं उतने किस्म की बातें होती है और जितनी बातें होती है उतने तरीके से बुद्धि सोचती है। जब दिमाग (बुद्धि) स्थिर होकर एक जगह या परमात्मा में लग जाती है तो उसे ही योग कहते हैं। बुद्धि का स्तर हो जाना ही एकाग्रता कहलाता है। स्थिर होकर एकाग्रता से कुछ करने को समाधि की स्थिति भी कहते हैं।, नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः ।न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः । । २३ ॥, अर्थ:- इस श्लोक में भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि आत्मा न तो कभी भी या किसी भी प्रकार के शस्त्र द्वारा खण्ड – खण्ड नहीं किया जा सकता है , आत्मा को न अग्नि द्वारा जलाया जा सकता है , न जल द्वारा भिगोया या जा सकता है , न वायु द्वारा सुखाया जा सकता है।, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि शरीर में रहने वाले देह का कभी भी वध नहीं किया जा सकता। वह अजन्मा ,नित्य, शाश्वत, तथा पुरातन है। इस लिए उसे इसी भी बात की चिंता नहीं करनी चाहिए।, यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत । अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥ 7परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥ 8 ॥, अर्थ:- इस श्लोक में भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते है कि जब भी और जहाँ भी धर्म की ग्लानि, पतन, हानि होती है और अधर्म की प्रधानता , वृद्धि होने लगती है , तब तब मैं धर्म की वृद्धि के लिए अवतार लेता हूँ । भक्तों का उद्धार करने, दुष्टों का विनाश करने तथा धर्म की फिर से स्थापना करने के लिए हर युग में प्रकट होता रहूंगा। यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य को हमेशा धर्म का पालन करते रहना चाहिए और जब जब धर्म की हानी या धर्म का पालन नहीं होगा। सज्जन पुरुषों के कल्याण के लिए और दुष्कर्मियों के विनाश के लिए और धर्म की स्थापना के लिए मैं श्रीकृष्ण युगों – युगों से प्रत्येक युग में जन्म लेता रहूंगा।, कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन ।मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि ॥ 47, अर्थ:- कर्म पर ही तुम्हारा अधिकार है लेकिन कर्म के फलों में कभी नहीं इसलिए कर्म को फल के लिए मत करो और न ही कर्म न करने में कभी अशक्त हो।, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि हर मनुष्य के हाथ में कर्म करना तो है। पर कर्म का फल ले पाना मनुष्य के हाथ में नहीं है। इस लिए मनुष्य को कर्म करते रहना चाहिए लेकिन फल की चिंता न करते हुए।, ध्यायतो विषयान्पुंसः सङ्गस्तेषूपजायते । सङ्गात्संजायते कामः कामात्क्रोधोऽभिजायते, अर्थ:- विषयों के बारे में सोचते रहने से मनुष्य की उनमें आसक्ति उत्पन्न हो जाती है । इससे मनुष्य में काम यानी इच्छा उत्पन्न होती है और काम से क्रोध की उत्पत्ति होती है ।, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि एक मनुष्य में काम क्रोध आदि की उत्पत्ति कैसे होती। सर्वप्रथम विषयों के बारे में बार-बार सोचने देखने के कारण मनुष्य में उसको पाने की उसे प्राप्त करने की इच्छा उत्पन्न होती। इच्छा के कारण काम और काम के कारण क्रोध उत्पन्न होता है। इसलिए मनुष्य को किसी भी विषयों के प्रति ध्यान नहीं देना चाहिए। बस एकमात्र ईश्वर का ध्यान करना चाहिए।, क्रोधाद्भवति संमोह : संमोहात्स्मृतिविभ्रमः ।स्मृतिभ्रंशानुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति, अर्थ:- क्रोध से पूर्ण मोह (अहंकार) उत्पन्न होता है। अहंकार से स्मरण शक्ति कम होने लगती है। चुप स्मरण शक्ति कम होने लगती है , तो बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि नष्ट होने पर मनुष्य का अध: पतन हो जाता है, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य किस तरह अपना नाश करता हैं। मनुष्य की मती क्रोध के कारण मारी जाती है यानी मूढ़ हो जाती है जिससे स्मृति भ्रमित हो जाती है। स्मृति – भ्रम हो जाने से मनुष्य की बुद्धि नष्ट हो जाती है और बुद्धि का नाश हो जाने पर मनुष्य खुद अपना ही का नाश कर बैठता है।, सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज ।अहं त्वां सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः ॥, अर्थ:- सभी प्रकार की धर्मों का त्याग करो और मेरी शरण में आओ मैं सभी प्रकार के पापों से तुम्हारा उद्धार कर दूंगा। मत घबराओ, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मनुष्य को हर प्रकार के आश्रय को त्याग कर केवल मेरी शरण में आना चाहिए क्यू की भगवान श्री कृष्ण शरण में जाकर ही उस का उद्धार हो पाएगा और सभी पापों से मुक्ति मिल जाएगी , इसलिए शोक मत करो ।, जन्म कर्म च मे दिव्यमेवं यो वेत्ति तत्त्वतः । त्यक्त्वा देहं पुनर्जन्म नैति मामेति सोऽर्जुन ॥ ९ ॥, अर्थ:- जो मनुष्य मेरे आविर्भाव मेरे दिव्य प्रकृति को जनता है, वह इस शरीर को छोड़ने पर फिर जन्म को प्राप्त नहीं होता, अपितु मेरे धाम को प्राप्त होता है, यह भगवान श्री कृष्ण का तात्पर्य है कि मेरे कर्म दिव्य निर्मल और अलौकिक हैं – इस प्रकार जो मनुष्य तत्त्व को जान लेता है , वह शरीर को त्यागकर इस भौतिक संसार में पुनः जन्म नहीं लेता, किन्तु मुझे ही प्राप्त होता है । ‘जो मनुष्य मुझे जान लेता है वह जन्म मृत्यु के चक्र से मुक्त हो जाता है।, श्रद्धावान्ल्लभते ज्ञानं तत्पर : संयतेन्द्रियः । ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति, अर्थ:- जो श्रद्धा रखने वाले मनुष्य ज्ञान प्राप्त करता है और जिसने इंद्रियों को वश में कर लिया है, वह इस ज्ञान को प्राप्त करने का अधिकारी है और इसे प्राप्त करते ही वह तुरंत आध्यात्मिक शांति को प्राप्त होता है।, श्रद्धा रखने वाले मनुष्य , अपनी इन्द्रियों पर संयम रखने वाले मनुष्य , साधनपारायण हो अपनी तत्परता से ज्ञान प्राप्त कते हैं , फिर ज्ञान मिल जाने पर जल्द ही परम – शान्ति प्राप्त होते हैं ।.

प्रेरणादायक संस्कृत श्लोक 2021